Jab Bhi Jakhm Tere Yaadon Ke

Jab Bhi Jakhm Tere Yaadon Ke Bharane Lagate Hai,
Kisi Bahaane Ham Tumhe Yaad Karane Lagate Hai,
Har Ajanabi Chehara Pahachaana Dikhai Deta Hai,
Jab Bhi Ham Teri Gali Se Gujarane Lagate Hai.

जब भी जख्म तेरे यादों के भरने लगते है,
किसी बहाने हम तुम्हे याद करने लगते है,
हर अजनबी चेहरा पहचाना दिखाई देता है,
जब भी हम तेरी गली से गुजरने लगते है।

Jab Bhi Jakhm Tere Yaadon Ke Yaad Shayari
Advertisement

Jis Raat Ko Chaand Se Teri Baaten Ki Hamane,
Subah Ki Aankh Me Aansoo Ubharane Lagate Hai,
Jisane Bhar Diya Daaman Ko Berang Phoolon Se,
Unake Ek Dard Par Ham Kyon Tadapane Lagate Hai.

जिस रात को चाँद से तेरी बातें की हमने,
सुबह की आँख मे आँसू उभरने लगते है,
जिसने भर दिया दामन को बेरंग फूलों से,
उनके एक दर्द पर हम क्यों तड़पने लगते है।

Dil Ke Darawaje Par Koi Dastak Nahi Hoti,
Tera Jikr’ Hote Hi Daro Diwar Mahakane Lagate Hai,
Mita De Har Khyaal Jehan Ki Kitaab Se Lekin,
Ibaarat Pe Unaka Naam Dekhakar Sisakane Lagate Hai.

दिल के दरवाजे पर कोई दस्तक नही होती,
तेरा जिक्र होते ही दरो दीवार महकने लगते है,
मिटा दे हर ख्याल जेहन की किताब से लेकिन,
इबारत पे उनका नाम देखकर सिसकने लगते है।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories