Har Kaanch Ka Tukada Hira Nahin

Dhokha Deti Hai Shariph Cheharon Ki Chamak Aksar,
Har Kaanch Ka Tukada Hira Nahin Hota.

धोखा देती है शरीफ चेहरों की चमक अक्सर,
हर कांच का टुकड़ा हीरा नहीं होता।

Har Kaanch Ka Tukada Hira Nahin Two Line Shayari
Advertisement

Nahin Tha Yakin Kabhi Milana Padega Judai Ke Baad,
Phir Bhadak Uthenge Zajbaat Tumhaari Bewafai Ke Baad.

नहीं था यकीन कभी मिलना पड़ेगा जुदाई के बाद,
फिर भड़क उठेंगे ज़ज्बात तुम्हारी बेवफाई के बाद।

Kise Maaloom Tha Ishq Is Kadar Laachaar Karta Hai,
Dil Use Jaanata Hai Bewafa Magar Pyaar Karta.

किसे मालूम था इश्क़ इस कदर लाचार करता है,
दिल उसे जानता है बेवफा मगर प्यार करता है।

Hai Bewafai Ki Intaha Kar De,
Taaki Maaloom Ho Wafa Kya Hai.

बेवफाई की इन्तहा कर दे,
ताकि मालूम हो वफ़ा क्या है।

Hamaari Subah-Shaam Hoti Thi Jin Ke Pahaloo Mein,
Waqt Badala To Dikhai Dete Hai Gairon Ke Dariche Mein.

हमारी सुबह-शाम होती थी जिन के पहलू में,
वक़्त बदला तो दिखाई देते है ग़ैरों के दरीचे में।

Paagalapan Ki Saari Lakiren Mere Haath Mein Kyon,
Jis Ko Chaahoon Main Hi Chaahoon, Main Hi Chaahoon Kyon.

पागलपन की सारी लकीरें मेरे हाथ में क्यों,
जिस को चाहूँ मैं ही चाहूँ, मैं ही चाहूँ क्यों।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories