Barase Bagair Hi Jo Ghata

Meri Tanhai Ko Mera Shauk Mat Samajhana,
Bahut Pyaar Se Diya Hai Ye Tohafa Kisi Ne.

मेरी तन्हाई को मेरा शौक मत समझना,
बहुत प्यार से दिया है ये तोहफा किसी ने।

Barase Bagair Hi Jo Ghata Two Line Shayari
Advertisement

Barase Bagair Hi Jo Ghata Aakar Nikal Gayi,
Ek Bewafa Ka Ahad-Ai-Wafa Yaad Aa Gaya.

बरसे बगैर ही जो घटा आकर निकल गयी,
एक बेवफा का अहद-ऐ-वफ़ा याद आ गया।

Saabit Hua Ki Tu Bhi Zamaane Ke Saath Hai,
Saabit Hua Ki Tu Bhi Hamaara Nahin Raha.

साबित हुआ की तू भी ज़माने के साथ है,
साबित हुआ की तू भी हमारा नहीं रहा।

Phir Itane Maayus Kyon Ho Usaki Bewafai Par Faraaz,
Tum Khud Hi To Kahate The Ki Wo Sabase Juda Hai.

फिर इतने मायूस क्यों हो उसकी बेवफाई पर फ़राज़,
तुम खुद ही तो कहते थे की वो सबसे जुदा है।

Aaj Usane Dard Bhi Apane Elhaada Kar Liya,
Aaj Bhi Roya To Mere Saath Wo Roya Na Tha.

आज उसने दर्द भी अपने एल्हादा कर लिया,
आज भी रोया तो मेरे साथ वो रोया ना था।

Ab Karake Pharaamosh To Nashaad Karoge,
Par Ham Jo Na Honge To Bahut Yaad Karoge.

अब करके फरामोश तो नशाद करोगे,
पर हम जो ना होंगे तो बहुत याद करोगे।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories