Unaki Nigaahen Kuchh Aise

Unaki Nigaahen Kuchh Aise Sharaarat Karati Hain,
Julphe Bhi Haye Kayaamat Karati Hain.
Ham Chaahakar Bhi Unase Najare Hata Nahin Pate,
Phir Bhi Shikaayat Vo Meri Nazaron Se Karti Hai.

उनकी निगाहें कुछ ऐसे शरारत करतीं हैं,
जुल्फे भी हाय कयामत करती हैं।
हम चाहकर भी उनसे नजरे हटा नहीं पाते,
फिर भी शिकायत वो मेरी नज़रों से करतीं है।

Unaki Nigaahen Kuchh Aise Gila Shikwa Shayari
Advertisement

Aisa Dard Mila Hai Hamen Jisaki Dava Nahin,
Phir Bhi Khush Hoon Us Se Koi Shikava Nahin,
Aur Kitne Aansoo Bahaoon Us Ke Liye,
Rab Ne Jisko Mere Naseeb Mein Likha Hi Nahin.

ऐसा दर्द मिला है हमें जिसकी दवा नहीं;​
​फिर भी खुश हूँ उस से कोई शिकवा नहीं​,
​​और कितने आंसू बहाऊँ उस के लिए​,
रब ने जिसको मेरे नसीब में लिखा ही नहीं।

Ham Shikayat Nahin Karte Jamane Se Koi,
Gar Maan Jaata Manane Se Koi,
Phir Kisi Ko Yaad Karta Na Koi,
Agar Bhool Jaata Bhulane Se Koi.

हम शिकायत नहीं करते जमाने से कोई,
गर मान जाता मनाने से कोई,
फिर किसी को याद करता ना कोई,
अगर भूल जाता भूलने से को।

Hakiqat Kaho To Unko Khwaab Lagta Hai,
Shikaayat Karo To Unko Majaak Lagta Hai,
Kitni Shiddat Se Unhen Yaad Karte Hain Ham,
Aur Ek Vo Hain Jinhen Ye Sab Ittephaak Lagta Hai.

हकीक़त कहो तो उनको ख्वाब लगता है,
शिकायत करो तो उनको मजाक लगता है,
कितनी शिद्दत से उन्हें याद करते हैं हम,
और एक वो हैं जिन्हें ये सब इत्तेफाक लगता है।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories