Nazaron Se Shikaayat

Unase Milunga To Kuchh Na Kahunga,
Kahengi Ye Najaren Mai To Sununga.

उनसे मिलूँगा तो कुछ ना कहूँगा,
कहेंगी ये नजरें, मैं तो सुनूंगा।

Nazaron Se Shikaayat Gila Shikwa Shayari
Advertisement

Is Jamane Se Hame Na Gila Na Koi Shikwa,
Pyar Ke Parinde Hain Ham Bas Mohabbat Bantate Rahte Hain.

इस जमाने से हमे न गिला न कोई शिकवा,
प्यार के परिंदे हैं हम बस मोहब्बत बांटते रहते हैं।

Sirf Nazdeekiyon Se Mohabbat Hua Nahi Karti,
Fasle Jo Dilon Mein Ho To Fir Chahat Hua Nahi Karti,
Agar Naraz Ho Khafa Ho To Shikayat Karo Humse,
Khamosh Rahne Se Dilon Ki Dooriyan Mita Nahi Karti.

सिर्फ नज़दीकियों से मोहब्बत हुआ नहीं करती,
फैसले जो दिलों में हो तो फिर चहत हुआ नहीं करती,
अगर नाराज़ हो खफा हो तो शिकायत करो हमसे,
खामोश रहने से दिलों की दूरियां मिटा नहीं करती।

Rishton Se Badi Jarurat Kya Hogi,
Dosti... Se Badi Ibaadat Kya Hogi,
Jise Dost Mil Jaaye Tum Jaisa Anmol,
Zindagi Se Use Aur Shikayat Kya Hogi.

रिश्तों से बड़ी जरुरत क्या होगी,
दोस्ती... से बड़ी इबादत क्या होगी,
जिसे दोस्त मिल जाये तुम जैसा अनमोल,
ज़िन्दगी से उसे और शिकायत क्या होगी।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories