Zamaane Ka Dastoor

Na Jaanu Mai Is Zamaane Ka Dastoor Kya Hai,
Na Jaanu Mere Mukaddar Ko Manjoor Kya Hai.
Na Jaanu Mere Kareeb Kya Hai,
Na Jaan Mujhase Door Kya Hai.

न जानू मै इस ज़माने का दस्तूर क्या है,
न जानू मेरे मुकद्दर को मंजूर क्या है।
न जानू मेरे करीब क्या है,
न जानू मुझसे दूर क्या है।

Zamaane Ka Dastoor Shayari On Zindagi
Advertisement

Khata Unki Bhi Nahin Yaaro Wo Bhi Kya Karte,
Bahut Chahane Wale The Kis Kis Se Wafa Karte.

खता उनकी भी नहीं यारो वो भी क्या करते,
बहुत चाहने वाले थे किस किस से बफा करते।

Tareekh Ki Nazar Mein Aise Bhi Manzar Aaye,
Lamhon Ne Khata Ki Aur Sadiyon Ne Saja Payi.

तारीख की नज़र में ऐसे भी मंज़र आये,
लम्हों ने खता की और सदियों ने सजा पायी।

Bas Ek Bar Nikaal Do Is Ishq Se Ai Khuda,
Phir Jab Tak Jiyenge Koi Khata Na Karenge.

बस एक बार निकाल दो इस इश्क से ऐ खुदा,
फिर जब तक जियेंगे कोई खता न करेंगे।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories