Kaha Maykhane Ka Darwaza Galib

Kaha May-Khane Ka Darwaza "Galib" Aur Kaha Vayiz,
Par Itana Janate Hain Kal Wo Jata Tha Ki Ham Nikale..

कहाँ मय-ख़ाने का दरवाज़ा 'ग़ालिब' और कहाँ वाइज़।
पर इतना जानते हैं कल वो जाता था कि हम निकले।।

Kaha Maykhane Ka Darwaza Galib Mirza Ghalib Shayari
Advertisement

Ye N Thi Hamari Kisamat Ki Visaal-E-Yaar Hota,
Agar Aur Jeete Rahate Yahi Intizaar Hota..

ये न थी हमारी क़िस्मत कि विसाल-ए-यार होता।
अगर और जीते रहते यही इंतिज़ार होता।।

Wo Chiz Jisake Liye Hamako Ho Bahisht Azez,
Siwaye Bada-E-Gulfaam-e-E-Mushkabu Kya Hai..

वो चीज़ जिसके लिये हमको हो बहिश्त अज़ीज़।
सिवाए बादा-ए-गुल्फ़ाम-ए-मुश्कबू क्या है।।

N Shole Me Ye Larishma N Barq Me Ye Adaa,
Koi Batao Ki Wo Shokhe-Tandukhu Kya Hain..

न शोले में ये करिश्मा न बर्क़ में ये अदा।
कोई बताओ कि वो शोखे-तुंदख़ू क्या है।।

Nazar Lage N Kahi Usake Dast-O-Baju Ko,
Ye Log Kyun Mere Zakhme Jigar Dekhate Hai..

नज़र लगे न कहीं उसके दस्त-ओ-बाज़ू को।
ये लोग क्यूँ मेरे ज़ख़्मे जिगर को देखते हैं।।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories