Ishq Ne Galib Nikamma Kar Diya

Ishq Ne Galib Nikamma Kar Diya,
Warna Ham Bhi Aadami The Kaam Ke..

इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया।
वर्ना हम भी आदमी थे काम के।।

Ishq Ne Galib Nikamma Kar Diya Mirza Ghalib Shayari
Advertisement

Dard Jab Dil Me Ho To Dawa Kijiye,
Dil Hi Jab Dard Ho To Kya Kijiye?

दर्द जब दिल में हो तो दवा कीजिए।
दिल ही जब दर्द हो तो क्या कीजिए।।

Koi Mere Dil Se Puchhe Tere Teer-E-Neem-Kash Ko,
Ye Khalish Kaha Se Hoti Jo Jigar Ke Paar Hota..

कोई मेरे दिल से पूछे तिरे तीर-ए-नीम-कश को।
ये ख़लिश कहाँ से होती जो जिगर के पार होता।।

Jula Hai Zism Janha Dil Bhi Jal Gaya Hoga,
Kudarate Ho Jo Ab Raakh Justaju Kya Hain..

जला है जिस्म जहाँ दिल भी जल गया होगा।
कुरेदते हो जो अब राख जुस्तजू क्या है।।

Rango Me Daudate Firane Ke Ham Nahi Kayal,
Jab Ankh Hi Se N Tapaka To Fir Lahu Kya Hai..

रगों में दौड़ते फिरने के हम नहीं क़ायल।
जब आँख ही से न टपका तो फिर लहू क्या है।।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories