Tum Khwab Bankar

Tum Khwab Bankar, Meri Neend Churaaya Na Karo,
Yun Mere Khwaabon Mein Aakar Mujhe Tadapaaya Na Karo.

तुम ख्वाब बनकर, मेरी नींद चुराया न करो,
यूँ मेरे ख्वाबों में आकर मुझे तड़पाया न करो।

Tum Khwab Bankar Love Shayari
Advertisement

Saza Ye Hai Ki Ninden Chheen Li Donon Ki Aankhon Se,
Khata Ye Hai Ki Ham Dono Ne Milkar Khwab Dekha Tha.

सज़ा ये है कि नींदें छीन ली दोनों की आँखों से,
खता ये है कि हम दोनों ने मिलकर ख्वाब देखा था।

Khwabon Par Ikhtiyaar Na Yaadon Pe Zor Hai,
Kab Zindagi Guzari Hai Apane Hisaab Mein.

ख़्वाबों पर इख़्तियार न यादों पे ज़ोर है,
कब ज़िंदगी गुज़ारी है अपने हिसाब में।

Ho Ke Tum Mere Mujhko Mukammal Kar Do,
Adhoore-Adhoore Ab Ham Khud Ko Bhi Achchhe Nahi Lagte.

हो के तुम मेरे मुझको मुकम्मल कर दो,
अधूरे-अधूरे अब हम ख़ुद को भी अच्छे नहीं लगते।

Baithe Raho Saamne Dil Ko Qaraar Aayega,
Jitnaa Dekhenge Tumhe Utnaa Hi Pyar Aayega.

बैठे रहो सामने दिल को करार आयेगा,
जितना देखेंगे तुम्हे उतना ही प्यार आयेगा।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories