Tere Nazaron Ne Mere Nazaron

Tere Nazaron Ne Mere Nazaron Se Kuchh Aise Mulakaat Kar Li,
Donon Ke Labj The Khaamosh, Phir Bhi Baat Kar Li.

तेरे नज़रों ने मेरे नज़रों से कुछ ऐसे मुलाकात कर ली,
दोनों के लब्ज थे खामोश, फिर भी बात कर ली।

Tere Nazaron Ne Mere Nazaron Love Shayari
Advertisement

Honth Kah Nahi Sakte Jo Fasana Dil Ka,
Shayad Najron Se Wo Baat Ho Jaye,
Isi Ummeed Mein Intezaar Karte Hain Raat Ka,
Ki Shayad Sapno Me Hi Mulakaat Ho Jaye.

होंठ कह नही सकते जो फ़साना दिल का,
शायद नजरों से वो बात हो जाए,
इसी उम्मीद में इंतजार करते हैं रात का,
कि शायद सपनों मे ही मुलाकात हो जाए।

Dosti To Bas Ek Ittefaaq Hai,
Dosti To Do Dilon Ki Mulakaat Hai,
Dosti Nahin Dekhti Din Aur Raat,
Ismen To Sirf Eemandari Aur Jazbaat Hai.

दोस्ती तो बस एक इत्तेफ़ाक़ है,
दोस्ती तो दो दिलों की मुलाक़ात है,
दोस्ती नहीं देखती दिन और रात,
इसमें तो सिर्फ ईमानदारी और जज़्बात है।

Kaisa Hota Agar Kabhi Raat Na Hoti,
Phir Sapno Mein Unse Mulakaat Na Hoti,
Wo Vaada Karte Hamse Milne Ka Sapno Mein,
Na Milte Ham Na Aankhein Chaar Hoti.

कैसा होता अगर कभी रात न होती,
फिर सपनों में उनसे मुलाकात न होती,
वो वादा करते हमसे मिलने का सपनो में,
न मिलते हम न आँखें चार होती।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories