Har Shakhs Ko Divaana Bana Deta Hai

Har Shakhs Ko Diwaana Bana Deta Hai Ishk,
Jannat Ki Sair Kara Deta Hai Ishk,
Dil Ke Mareej Ho To Kar Lo Mahobbat,
Har Dil Ko Dhadakana Sikha Deta Hai Ishk...

हर शख्स को दिवाना बना देता है इश्क,
जन्नत की सैर करा देता है इश्क,
दिल के मरीज हो तो कर लो महोब्बत,
हर दिल को धड़कना सिखा देता है इश्क।

Har Shakhs Ko Divaana Love Shayari
Advertisement

Ek Sukoon Sa Milata Hai... Tujhe Sochane Se Bhi...
Phir Kaise Kah Doon... Mera Ishq Bewajah Sa Hai...
Bahut Dinon Baad Teri Mahafil Mein Kadam Rakha Hai,
Magar Najaro Se Salaami Dene Ka Tera Andaaz Nahi Badala.

एक सुकून सा मिलता है... तुझे सोचने से भी...
फिर कैसे कह दूँ... मेरा इश्क़ बेवजह सा है...
बहुत दिनों बाद तेरी महफ़िल में कदम रखा है,
मगर नजरो से सलामी देने का तेरा अंदाज़ नही बदला।

Tumhen Ehasaas Hi Nahi Kitana Ishq Hai Tumase
Bas Roj Thoda Aur Tumase Judate Jaate Hain Ham.

तुम्हें एहसास ही नही कितना इश्क़ है तुमसे,
बस रोज थोड़ा और तुमसे जुड़ते जाते हैं हम।

Lafzon Se Kahaan Likhi Jaati Hai Ye Bechainiyaan Mohabbat Ki,
Mainne To Har Baar Tumhe Dil Ki Gaharaiyo Se Pukaara Hai.

लफ़्ज़ों से कहाँ लिखी जाती है ये बेचैनियां मोहब्बत की,
मैंने तो हर बार तुम्हे दिल की गहराईयो से पुकारा है।

Sun Bas Ek Hi Khvaahish Hai, Ki Tujhe Khud Se Jyaada Chaahoon,
Main Rahoo Ya Na Rahoo Meri Wafa Hamesha Yaad Rahegi.

सुन बस एक ही ख्वाहिश है, की तुझे खुद से ज्यादा चाहूँ,
मैं रहू या ना रहू मेरी वफ़ा हंमेशा याद रहेगी।

In Aankhon Ko Jab Tera Didaar Ho Jaata Hai,
Din Koi Bhi Ho Mera Tyauhaar Ho Jaata Hai.

इन आँखों को जब तेरा दीदार हो जाता है,
दिन कोई भी हो मेरा त्यौहार हो जाता है।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories