Rahabar Samajh Kar

Rahabar Samajh Kar Rahajanon Ke Saath Ho.
Raaz Khulane Tak Hamara Loot Chuka Tha Kafila.
Ubaara Kai Baar Mujhako Maujon Ne.
Meri Nadaniyaan He Mujhko Le Dubin.

रहबर समझ कर रहजनों के साथ हो लिए।
राज़ खुलने तक हमारा लुट चुका था काफिला।
उबारा कई बार मुझको मौजों ने।
मेरी नादानियाँ ही मुझको ले डूबीं।

Rahabar Samajh Kar Gam Bhari Shayari
Advertisement

Hume Koi Gam Nahi Tha Gam-e-Ashiqi Se Pahle,
Na Thi Dushmani Kisi Se Teri Dosti Se Pahle,
Hai Ye Meri BadNashibi Tera Kya Kasoor Isme,
Tere Gam Ne Maar Dala Mujhe Zindagi Se Pahle.

हमें कोई ग़म नहीं था ग़म-ए-आशिक़ी से पहले,
न थी दुश्मनी किसी से तेरी दोस्ती से पहले,
है ये मेरी बदनसीबी तेरा क्या कुसूर इसमें,
तेरे ग़म ने मार डाला मुझे ज़िन्दग़ी से पहले।

Tera Hijr Mera Naseeb Hai Tera Gam Hi Meri Hayaat Hai,
Mujhe Teri Doori Ka Gam Ho Kyon Tu Kahin Bhi Ho Mere Saath Hai.

तेरा हिज्र मेरा नसीब है तेरा ग़म ही मेरी हयात है,
मुझे तेरी दूरी का ग़म हो क्यों तू कहीं भी हो मेरे साथ है।

Gam To Hai Har Ek Ko, Magar Haunsla Hai Juda- Juda,
Koi Toot Kar Bikhar Gaya Koi Muskura Ke Chal Diya.

गम तो है हर एक को, मगर हौंसला है जुदा- जुदा,
कोई टूट कर बिखर गया कोई मुस्कुरा के चल दिया।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories