1 April Ko Hi Shaadi Karoonga

हमारे मोहल्ले का एक वैवाहिक कार्यक्रम अप्रैल फूल की भेंट चढ़ गया।
मैं 1 अप्रैल को ही शादी करूंगा दूल्हा इस बात पर अड़ गया।

मैं घोड़े पर नहीं गधे पर बैठ कर जाऊंगा।
दुल्हन के बजाय उसकी दादी को ब्याह कर लाऊंगा।

1 April Ko Hi Shaadi Karoonga Comedy Shayari
Advertisement

मोहल्ले वालों ने समझाया ऐसा करके मुर्ख कहलाएगा।
दूल्हा बोला तभी तो असली मजा आएगा।

शादी करने वाला कौन समझदार होता है शादी के बाद जिंदगी भर रोता है।
रही दुल्हन के बदले दादी मानो रेशम के बदले खादी।

शरीर को शीतलता पहुंचाएगी मेकअप के फरमाइश करके कान को नहीं सताएगी।
मैं जीवन का उसे सबसे बड़ा भेंट दूंगा पूरे बत्तीसी दातों का नया सेट दूंगा।

Hamaare Mohalle Ka Ek Vaivaahik Kaaryakram Aprail Phool Ki Bhent Chadh Gaya,
Main 1 April Ko Hi Shaadi Karoonga Doolha Is Baat Par Ad Gaya.

Main Ghode Par Nahin Gadhe Par Baith Kar Jaoonga,
Dulhan Ke Bajaay Usaki Daadi Ko Byaah Kar Laoonga.

Mohalle Walon Ne Samajhaaya Aisa Karake Murkh Kahalaega,
Doolha Bola Tabhi To Asali Maja Aaega.

Shaadi Karane Wala Kaun Samajhadaar Hota Hai Shaadi Ke Baad Jindagi Bhar Rota Hai,
Rahi Dulhan Ke Badale Daadi Maano Resham Ke Badale Khaadi.

Sharir Ko Shitalata Pahunchaegi Mekap Ke Pharamaish Karake Kaan Ko Nahin Sataegi
Main Jivan Ka Use Sabase Bada Bhent Doonga Poore Battisi Daaton Ka Naya Set Doonga.

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories