Mera Na Ban Saka Gaalib

Tu Wo Jaalim Hai Jo Dil Mein Rah Kar Bhi Mera Na Ban Saka Gaalib,
Aur Dil Wo Kaafir Jo Mujh Mein Rah Kar Bhi Tera Ho Gaya.

तू वो जालिम है जो दिल में रह कर भी मेरा ना बन सका ग़ालिब,
और दिल वो काफिर जो मुझ में रह कर भी तेरा हो गया।

Mera Na Ban Saka Gaalib Bewafa Shayari
Advertisement

Wo Jo Kahata Tha Ki Tum Na Mile To Mar Jaayenge Ham,
Wo To Aaj Bhi Jinda Hai Kisi Aur Se Ye Baat Kahane Ke Liye,
Wo Shakhs Ek Chhoti Si Baat Pe Yoon Rooth Ke Chal Diya,
Jaise Use Sadiyon Se Kisi Bahaane Ki Talaash Thi.

वो जो कहता था की तुम ना मिले तो मर जायेंगे हम,
वो तो आज भी जिन्दा है किसी और से ये बात कहने के लिए,
वो शख्स एक छोटी सी बात पे यूँ रूठ के चल दिया,
जैसे उसे सदियों से किसी बहाने की तलाश थी।

Jisane Haq Diya Mujhe Muskuraane Ka,
Use Shauk Hai Ab Mujhe Rulaane Ka,
Jo Laharo Se Chhin Kar Laaya Tha Kinaaro Par,
Intajaar Tha Use Ab Mere Doob Jaane Ka.

जिसने हक़ दिया मुझे मुस्कुराने का,
उसे शौक है अब मुझे रुलाने का,
जो लहरो से छीन कर लाया था किनारो पर,
इन्तजार था उसे अब मेरे डूब जाने का।

Dil Lagi Thi Use Hamase, Mohabbat Kab Thi,
Mahafil-E-Gair Se Unako Fursat Kab Thi,
Ham The Mohabbat Mein Lot Jaane Ke Kaabil,
Usake Vaadon Mein Wo Haqiqat Kab Thi.

दिल लगी थी उसे हमसे मोहब्बत कब थी,
महफ़िल-ऐ-गैर से उनको फुर्सत कब थी,
हम थे मोहब्बत में लोट जाने के काबिल,
उसके वादों में वो हक़ीक़त कब थी।

Wo Ajanabi Tha To Mujhase Dil Lagaaya Kyon,
Is Gair Ko Apana Banaaya Kyon,
Wo Mera Hota To Mujhe Chhod Ke Kyon Jaata,
Wo Mera Nahin Tha To Meri Jindagi Mein Aaya Kyon.

वो अजनबी था तो मुझसे दिल लगाया क्यों,
इस गैर को अपना बनाया क्यों,
वो मेरा होता तो मुझे छोड़ के जाता क्यों,
वो मेरा नहीं था तो मेरी जिंदगी में आया क्यों।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories