Magaroor Samajh Liya

Bhula Ke Mujhako Agar Tum Ho Salaamat,
To Bhula Ke Tujhako Sambhalana Bhi Mujhe Aata Hai,
Nahin Hai Meri Phitarat Mein Ye Aadat,
Warana Teri Tarah Banaana Mujhe Bhi Aata Hai.

भुला के मुझको अगर तुम हो सलामत,
तो भुला के तुझको सम्भलना भी मुझे आता है,
नहीं है मेरी फितरत में ये आदत,
वरना तेरी तरह बनाना मुझे भी आता है।

Magaroor Samajh Liya Bewafa Shayari
Advertisement

Khaamosh The Ham To Magaroor Samajh Liya,
Chup Hai Ham To Majaboor Samajh Liya,
Yahi Aap Ki Khushanasibi Hai Ki,
Ham Itane Karib Hai Phir Bhi Aapane Door Samajh Liya.

खामोश थे हम तो मगरूर समझ लिया,
चुप है हम तो मजबूर समझ लिया,
यही आप की खुशनसीबी है की,
हम इतने करीब है फिर भी आपने दूर समझ लिया।

Na Thi Jisako Mere Pyaar Ki Kadar,
Ittefaaq Se Usi Ko Chaah Raha Tha Main,
Usi Die Ne Jalaaya Mere Haathon Ko,
Jisako Hawa Se Bacha Raha Tha Main.

ना थी जिसको मेरे प्यार की कदर,
इत्तेफ़ाक़ से उसी को चाह रहा था मैं,
उसी दिए ने जलाया मेरे हाथों को,
जिसको हवा से बचा रहा था मैं।

Kuchh Is Tarah Se Jindagi Ko Maine Aasaan Kar Liya,
Bhulkar Teri Bewafai Apani Tanhai Se Pyaar Kar Liya.

कुछ इस तरह से जिंदगी को मैंने आसान कर लिया,
भूलकर तेरी बेवफाई अपनी तन्हाई से प्यार कर लिया।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories