Log Puchhte Hain

Log Puchhte Hain Kyu Surkh Hain Tumhari Aankhein,
Hans Ke Keh Deti Hoon Raat Ko So Na Saki,
Lakh Chahoon Bhi Magar Ye Keh Na Sakoon,
Raat Ko Rone Ki Hasrat Thi Magar Ro Na Saki.

लोग पुछते हैं, क्यों सुर्ख हैं तुम्हारी आँखें,
हँस के कह देती हूँ, रात को सो ना सकी,
लाख चाहूँ मागर, ये कह न सकूँ,
रात को रोने की हसरत थी, मगर सो न सकी।

Log Puchhte Hain Bewafa Shayari
Advertisement

Ab Aansuon Ko Aankhon Me Sajana Hoga,
Chiaraag Bujh Gaye Khud Ko Jalana Hoga,
Na Samajhna Ki Tumse Bichadke Khush Hain Hum,
Hamein Logon Ki Khatir Muskurana Hoga.

अब आंसुओं को आँखों में सजाना होगा,
चिराग बुझ गए ख़ुद को जलाना होगा,
ना समझना की तुमसे बिछड़ के खुश हैं हम,
हमें लोगों के खातिर मुसकुराना होगा।

Dil Ke Sagar Me Lahare Uthaya Na Karo,
Khwab Bankar Neend Churaya Na Karo,
Bahot Chot Lagti Hai Mere Dil Ko,
Tum Khwabo Mein Aa Kar Yu Tadpaya Na Karo.

दिल के सागर में लहरें उठाया ना करो,
ख्वाब बनकर नींद चुराया न करो,
बहुत चोट लगती है मेरे दिल को,
तुम ख्वाबो में आ कर यूँ तड़पाया ना करो।

Pyaar Karne Ka Hunar Hamein Nahi Aata,
Isliye Pyaar Ki Baazi Hum Haar Gaye,
Hamari Zindagi Se Unhe Bahot Pyaar Tha,
Shayad Isiliye Wo Hamein Zinda Hi Maar Gaye.

प्यार करने का हुनर हमें नहीं आता,
इसलिए प्यार की बाजी हम हार गये,
हमारी ज़िन्दगी से उन्हें बहुत प्यार था,
शायद इसीलिए वो हमें जिंदा ही मार गये।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories