Jaan Kar Bhi Wo Hamen Jaan Na Paaye

Jaan Kar Bhi Wo Hamen Jaan Na Paaye,
Aaj Tak Vo Hamen Pahachaan Na Paaye,
Khud Hi Kar Li Bevaphai Hamane Unase,
Taaki Un Par Bevaphai Ka Koi Iljaam Na Aaye.

जान कर भी वो हमें जान ना पाये,
आज तक वो हमें पहचान ना पाये,
खुद ही कर ली बेवफाई हमने उनसे,
ताकि उन पर बेवफाई का कोई इल्जाम ना आये।

Jaan Kar Bhi Wo Hamen Jaan Bewafa Shayari
Advertisement

Dilon Se Khelane Ka Hunar Hamen Nahin Aata,
Islie Ishk Ki Baaji Ham Haar Gaye,
Meri Jindagi Se Shaayad Unhen Bahut Pyaar Tha,
Islie Mujhe Zinda Hi Vo Maar Gaye.

दिलों से खेलने का हुनर हमें नहीं आता,
इसलिए इश्क की बाजी हम हार गए,
मेरी जिंदगी से शायद उन्हें बहुत प्यार था,
इसलिए मुझे ज़िंदा ही वो मार गए।

Ek Bevapha Ko Apana Hamaraaj Banaakar,
Ab Pachhata Raha Hoon Apana Dil Ganwakar,
Us Bevapha Ne Jindagi Mein Aag Laga Di,
Jise Dil Mein Basaaya Tha Dhadakan Banaakar.

एक बेवफा को अपना हमराज बनाकर,
अब पछता रहा हूँ अपना दिल गंवाकर,
उस बेवफा ने जिंदगी में आग लगा दी,
जिसे दिल में बसाया था धड़कन बनाकर।

Kisko Pharebi Ham Kahe Kisko Kahe Ham Bevapha,
Kismat Hi Shaayad Aisi Likha Kar Laaye Hai Ham,
Aaj Waakiph Hai Yaaron Hamase Shahar Ka Har Ek Aadami,
Magar Apanon Ke Liye Hi Dekhiye Paraaye Hai Ham.

किसको फरेबी हम कहे किसको कहे हम बेवफा,
किस्मत ही शायद ऐसी लिखा कर लाये है हम,
आज वाकिफ है यारों हमसे शहर का हर एक आदमी,
मगर अपनों के लिए ही देखिये पराये है हम।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories