Hai Agar Hamaari Koi Khata

Hai Agar Hamari Koi Khata To Saabit To Kar,
Agar Bure Hai Ham To Bura Saabit To Kar,
Tujhe Chaaha Hai Hamane Kitana Tu Kya Jaane,
Chal Ham Bewapha Hi Sahi Tu Apani Wafa Saabit To Kar.

है अगर हमारी कोई खता तू साबित तो कर,
अगर बुरे है हम तो बुरा साबित तो कर,
तुझे चाहा है हमने कितना तू क्या जाने,
चल हम बेवफा ही सही तू अपनी वफ़ा साबित तो कर।

Hai Agar Hamaari Koi Khata Bewafa Shayari
Advertisement

Maine Har Gam Ko Hans Ke Utha Liya,
Raaj Teri Bewaphai Ka Sabase Chhipa Liya,
Mujhako To Teri Waphaon Par Yakeen Tha,
Na Jaane Kyon Tumne Apana Daaman Chhuda Liya.

मैंने हर गम को हंस के उठा लिया,
राज तेरी बेवफाई का सबसे छिपा लिया,
मुझको तो तेरी वफाओं पर यकीन था,
ना जाने क्यों तुमने अपना दामन छुड़ा लिया।

Wafa Ka Naam Mat Lo Yaaron Wafa Dil Ko Dukhaati Hai,
Wafa Ka Naam Lene Se Hamen, Ek Bewapha Ki Yaad Aati Hai.

वफ़ा का नाम मत लो यारों वफ़ा दिल को दुखाती है,
वफ़ा का नाम लेने से हमें एक बेवफा की याद आती है।

Kisase Maange Dawa Jakhmo Ki Sabhi Ne Chotein Khaayi Hai,
Kisi Ka Sanam Bewapha Hai To Kisi Ka Saajan Harajaee Hai,
Jaan Kar Bhi Vo Hamen Jaan Na Paaye, Aaj Tak Wo Hamen Pahachaan Na Paaye,
Khud Hi Kar Li Bewaphai Hamane, Taaki Un Par Koi Iljaam Na Aaye.

किससे मांगे दवा जख्मो की सभी ने चोटें खायी है,
किसी का सनम बेवफा है तो किसी का साजन हरजाई है,
जान कर भी वो हमें जान ना पाये, आज तक वो हमें पहचान ना पाये,
खुद ही कर ली बेवफाई हमने ताकि उन पर कोई इल्जाम ना आये।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories