Barbaad Kar Gaye Wo Jindagi

Barbaad Kar Gaye Wo Jindagi Pyaar Ke Naam Se,
Bewafai Hi Mili Sirf Wafa Ke Naam Se,
Zakhm Hi Zakhm Diye Usane Dava Ke Naam Se,
Aasamaan Bhi Ro Pada Meri Mohabbat Ke Anjaam Se.

बर्बाद कर गए वो जिंदगी प्यार के नाम से,
बेवफाई ही मिली सिर्फ वफ़ा के नाम से,
ज़ख्म ही ज़ख्म दिए उसने दवा के नाम से,
आसमान भी रो पड़ा मेरी मोहब्बत के अंजाम से।

Barbaad Kar Gaye Wo Jindagi Bewafa Shayari
Advertisement

Roz Dhalati Hui Shaam Se Dar Lagata Hai,
Ab Mujhe Ishk Ke Anjaam Se Dar Lagata Hai,
Jab Se Mili Hai Bewafai Mujhe Ishk Mein,
Tab Se Ishk Ke Naam Se Bhi Dar Lagata Hai.

रोज़ ढलती हुई शाम से डर लगता है,
अब मुझे इश्क के अंजाम से डर लगता है,
जब से मिली है बेवफाई मुझे इश्क में,
तब से इश्क के नाम से भी डर लगता है।

Jaan Kar Bhi Wo Hamen Jaan Na Paaye,
Aaj Tak Wo Hamen Pahachaan Na Paaye,
Khud Hi Kar Li Bewafai,
Ki Koi Iljaam Na Aaye.

जान कर भी वो हमें जान ना पाये,
आज तक वो हमें पहचान ना पाये,
खुद ही कर ली बेवफाई,
कि कोई इल्जाम ना आये।

Dilon Se Khelane Ka Hunar Hamen Nahin Aata,
Isi Liye Ishk Ki Baazi Ham Haar Gaye,
Meri Jindagi Se Shaayad Unhen Bahut Pyaar Tha,
Isi Liye Mujhe Zinda Hi Wo Maar Gaye.

दिलों से खेलने का हुनर हमें नहीं आता,
इसी लिए इश्क की बाज़ी हम हार गए,
मेरी जिंदगी से शायद उन्हें बहुत प्यार था,
इसी लिए मुझे ज़िंदा ही वो मार गए।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories