Tera Hoon Mai Bhool Jaana Nahin

Tera Hoon Mai Bhool Jaana Nahin, Aankhon Se Aansoo Bahana Nahin,
Rooth Ke Hamase Door Jaana Nahin, Bheed Mein Kaheen Kho Jaana Nahin.

तेरा हूँ मै भूल जाना नहीं, आँखों से आंसू बहाना नहीं,
रूठ के हमसे दूर जाना नहीं, भीड़ में कहीं खो जाना नहीं।

Tera Hoon Mai Bhool Jaana Nahin Ashq Shayari
Advertisement

Vahi Ham The Ki Rote Huon Ko Hansa Dete The,
Vahi Ham Hain Ki Thamta Nahin Ek Aansoo Apna.

वही हम थे कि रोते हुओं को हंसा देते थे,
वही हम हैं कि थमता नहीं एक आँसू अपना।

Aankhon Mein Mere Is Kadar Chhaye Rahe Aansoo,
Ki Aaeene Mein Apni Hi Soorat Nahin Mili.

आंखों में मेरे इस कदर छाए रहे आंसू,
कि आईने में अपनी ही सूरत नहीं मिली।

Dupatte Se Apane Wo Ponchhta Hai Aansoo Mere,
Rone Ka Bhi Apana Kuchh Alag Hi Maza Hai.

दुपट्टे से अपने वो पोंछता है आँसू मेरे,
रोने का भी अपना कुछ अलग ही मज़ा है।

Bah Jati Kash Yaaden Bhi Aansuon Ke Saath,
To Ek Din Ham Bhi Ro Lete Tasalli Se Baith Kar.

बह जाती काश यादें भी आँसुओ के साथ,
तो एक दिन हम भी रो लेते तसल्ली से बैठ कर।

Koi Duhkh Basa Hai Unki Aankhon Mein Shayad,
Ya Mujhe Khud Hi Vaham Sa Hua Hai Shayad,
Jab Poochha Kya Bhool Gaye Ho Hame Tum,
Ponchh Kar Aansoo Apni Aankh Se Usne Bhi Kaha Shayad.

कोई दुःख बसा है उनकी आँखों में शायद,
या मुझे खुद ही वहम सा हुआ है शायद,
जब पूछा क्या भूल गए हो हमे तुम,
पोंछ कर आँसू अपनी आँख से उसने भी कहा शायद।

Advertisement
Advertisement

Related Shayari

Shayari Categories